आम खाना कहीं पड़ ना जाये भारी, ऐसे चेक करें केमिकल से पका है या प्राकृतिक तरीके से?

आम का मौसम आ गया है और बाजार में तरह-तरह के आमों की भरमार है। ऐसे में कई लोग केमिकल से पके आम को लेकिन बेच रहे हैं और अनजान लोग इसे खाकर बीमार पड़ रहे हैं । क्या आप जानते हैं कि आपके द्वारा खरीदा गया आम प्राकृतिक तरीके से पका है या फिर किसी केमिकल की मदद से? ज्यादातर लोगों को इसकी पहचान तक नहीं हैं तो आज हम आपको कुछ ऐसे आसान तरीके बताएंगे जिनकी मदद से आप यह पता लगा सकते हैं कि आपके हाथ में आया आम केमिकल से पका है या फिर प्राकृतिक रूप से।

1. रंग और बनावट:

  • प्राकृतिक रूप से पके आमों का रंग धीरे-धीरे बदलता है और वे समान रंग के होते हैं।
  • केमिकल से पके आमों का रंग एकदम से बदल जाता है और उनमें धब्बे या अनियमित रंग हो सकते हैं।
  • प्राकृतिक रूप से पके आमों को छूने पर वे थोड़े नरम होते हैं।
  • केमिकल से पके आम सख्त या बहुत नरम हो सकते हैं।

2. डंठल:

  • प्राकृतिक रूप से पके आमों का डंठल सूखा और भूरा होता है।
  • रसायन से पके आमों का डंठल हरा या चिपचिपा हो सकता है।

3. गंध:

  • प्राकृतिक रूप से पके आमों से मीठी और मनमोहक गंध आती है।
  • रसायन से पके आमों में कोई गंध नहीं होती या फिर उनमें हल्की रासायनिक गंध आ सकती है।

4. स्वाद:

  • प्राकृतिक रूप से पके आमों का स्वाद मीठा, रसीला और स्वादिष्ट होता है।
  • रसायन से पके आमों का स्वाद फीका, कृत्रिम या थोड़ा कड़वा हो सकता है।

5. पानी में डालकर देखें:

  • एक बाल्टी पानी में आम डालें।
  • प्राकृतिक रूप से पके आम पानी में डूब जाएंगे, जबकि रसायन से पके आम तैरेंगे।

इन तरीकों का इस्तेमाल करके आप आसानी से पता लगा सकते हैं कि आपके हाथ में आया आम प्राकृतिक रूप से पका है या फिर केमिकल  की मदद से। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि केमिकल  से पके आम स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं। इसलिए, हमेशा प्राकृतिक रूप से पके आमों का ही सेवन करना चाहिए। अगली बार जब आप आम खरीदने जाएं, तो इन तरीकों का इस्तेमाल करके ज़रूर देखें और प्राकृतिक रूप से पके आमों का ही आनंद लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *