थायराइड की बीमारी से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स, नहीं तो दवाईयों से कर लें दोस्ती

थायराइड एक ऐसी बीमारी है जो गर्दन में स्थित थायराइड ग्रंथि को प्रभावित करती है। यह ग्रंथि शरीर के तापमान, हृदय गति, मेटाबॉलिज्मऔर विकास को नियंत्रित करने वाले हार्मोन का उत्पादन करती है। आइये जानते हैं एस बीमारी के बारे में और भी विस्तार से –

दो मुख्य प्रकार की थायराइड समस्याएं हैं:

  • हाइपोथायरायडिज्म: जब थायराइड ग्रंथि पर्याप्त हार्मोन नहीं बनाती है।
  • हाइपरथायरायडिज्म: जब थायराइड ग्रंथि बहुत अधिक हार्मोन बनाती है।

थायराइड की बीमारी के लक्षण:

  • हाइपोथायरायडिज्म: थकान, वजन बढ़ना, बालों का झड़ना, ठंड लगना, कब्ज, अनियमित मासिक धर्म, उदास मनोदशा।
  • हाइपरथायरायडिज्म: वजन कम होना, थकान, चिड़चिड़ापन, तेज़ दिल की धड़कन, पसीना आना, हाथों का कांपना, अनियमित मासिक धर्म।

थायराइड से बचाव:

  • स्वस्थ आहार: फल, सब्जियां, साबुत अनाज, और कम वसा वाले डेयरी उत्पादों का सेवन करें।
  • नियमित व्यायाम: सप्ताह में कम से कम 150 मिनट मध्यम-तीव्रता वाला व्यायाम करें।
  • तनाव कम करें: योग, ध्यान, या गहरी सांस लेने के व्यायाम तनाव कम करने में मदद कर सकते हैं।
  • पर्याप्त नींद: हर रात 7-8 घंटे की नींद लें।
  • धूम्रपान न करें: धूम्रपान थायराइड की बीमारी के खतरे को बढ़ा सकता है।
  • नियमित जांच: यदि आपको थायराइड का खतरा है, तो नियमित रूप से डॉक्टर से जांच करवाएं।

थायराइड बीमारी होने पर:

  • डॉक्टर से संपर्क करें: यदि आपको लक्षण दिखते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • दवा और लाइफस्टाइल में बदलाव: डॉक्टर आपको आवश्यक दवा और लाइफस्टाइल में बदलाव के बारे में बताएंगे। उचित उपचार और लाइफस्टाइल  में बदलाव से आप बीमारी को नियंत्रित कर सकते हैं।दवा का नियमित सेवन: डॉक्टर द्वारा बताई गई दवा को नियमित रूप से लें।
  • आहार और व्यायाम: अपने आहार और व्यायाम कार्यक्रम का पालन करें।
  • तनाव कम करें: तनाव कम करने के लिए तकनीक सीखें।
  • वजन नियंत्रण: अपने वजन को नियंत्रित रखें।नियमित डॉक्टर से मिलें: नियमित रूप से डॉक्टर से मिलते रहें।

थायराइड से डरें नहीं। यह नियंत्रित हो सकती है। उपरोक्त टिप्स का पालन करके आप स्वस्थ और खुशहाल जीवन जी सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *